Wednesday, November 4, 2009

बदलाव.....















एक  नन्ही  सी  बूँद
जो  उठी  थी  उर  से
अथाह  सागर के ,
का  स्वाद  चखा  था  मैंने 
तनिक  नमकीन  थी|
उड़  चली थी 
कुछ  सहमी  हुई  सी ,
कुछ  बहकी  हुई  सी ,
सूरज  के  प्यासे  अधरों   से
अपनी  नमी  छिपाती हुई ,
मलिन हुई  फिजाओं  से
अपनी  निवेदिता  बचाती हुई ,
तलाश  रही  थी 
अपना  खोया  अस्तित्व |
देखो  गगन  को  छूकर
उसके  गलियारों   में  रंग  भरकर
फिर  वापस  आई  है......
तृषित कंठों   को  तर  करने ,
बंजर  धरा  की गोद  भरने ,
हथेलियों  पर   मृदंग  करती ,
संग  पर  नए  छंद लिखती |
फिर  चखा  स्वाद  मैंने …….
और  आश्चर्य  हुआ  इस  नयी  अनुभूति  पर
की  बूँद  अब  मीठी हो  चुकी  थी |


बदलता  तो  है  मनुज  भी
शिखर को  छूकर
फिर  बदलाव  मनुज  में  ही क्यूँ
विपरीत  होता  है …………………


~सौम्या 


8 comments:

  1. Great .......
    Nice thought !!!!

    ReplyDelete
  2. waaaw bahut sundar ....very nice thoutght...

    ReplyDelete
  3. wow...superb
    i have never thought of such a contrasting change between drops and human being. i must say saumya you are very thoughtful and creative.
    the poem is really good.
    i loved it!!!

    ReplyDelete
  4. BEAUTIFUL... and so very true.

    ReplyDelete
  5. thanks Ambuj!...It's so very kind of you to comment on mine older posts.

    ReplyDelete

Thankyou for reading...:)